इंदिरा गाँधी का जीवन परिचय

दोस्तों, भारत की प्रथम महिला प्रधानमंत्री इंदिरा प्रियदर्शनी गाँधी जी से सभी परिचित हैं|इंदिरा गाँधी जी न केवल भारतीय राजनीति पर छाई रहीं बल्कि विश्व राजनीति के क्षितिज पर भी वे एक प्रभाव छोड़ गईं|श्रीमती गाँधी का जन्म नेहरू ख़ानदान में हुआ था|इंदिरा गाँधी, भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू की इकलौती पुत्री थीं| आज इंदिरा गाँधी को सिर्फ़ इस कारण नहीं जाना जाता कि वह पंडित जवाहरलाल नेहरु जी की बेटी थीं बल्कि इंदिरा गाँधी अपनी प्रतिभा और राजनीतिक दृढ़ता के लिए ‘विश्वराजनीति’ के इतिहास में जानी जाती हैं और इंदिरा गाँधी को ‘लौह-महिला’ के नाम से संबोधित किया जाता है। ये भारत की प्रथम महिला प्रधानमंत्री थीं|

इंदिरा गाँधी का जीवन परिचय

आज इस आर्टिकल के माध्यम से मै आप सभी को इंदिरा गाँधी जी के बारे में बताने जा रहा हूँ साथ ही आपको इनके जीवन से जुडी सारी बातें share करने जा रहा हूँ उम्मीद है आप सभी को बेहद पसंद आएगा|आप सभी की जानकारी के लिए बता दू कि इंदिरा गाँधी जी आज तक की एकमात्र महिला प्रधानमंत्री रही हैं आज तक कोई महिला प्रधानमंत्री नही हुआ|तो चलिए अब हम सभी सबसे पहले इनके जीवन परिचय पर प्रकाश डालते हैं और जानते हैं इनका जन्म कब हुआ आइये जानते हैं|

इसे भी पढ़ें – संबित पात्रा जी का जीवन परिचय|

इंदिरा गाँधी जी का जीवन परिचय –

पूरा नाम – इंदिरा प्रियदर्शनी गाँधी|

जन्म – 19 नवम्बर 1917|

जन्म स्थान – इलाहाबाद, उत्तर प्रदेश|

पिता – पं जवाहरलाल नेहरु|

माता – कमला नेहरु|

पति – फ़िरोज़ गाँधी|

पुत्र – राजीव गाँधी, संजय गाँधी|

पार्टी – कांग्रेस|

प्रसिद्धि – भारत की विजय|

पद – भारत की तृतीय प्रधानमंत्री|

मृत्यु – 31 अक्टूबर 1984|

मृत्यु स्थान – दिल्ली|

दोस्तों, जैसा कि मैंने आपको बताया इंदिरा गाँधी जी का जन्म 19 नवम्बर, 1917 को इलाहाबाद, उत्तर प्रदेश के आनंद भवन में एक सम्पन्न परिवार में हुआ था|इनका पूरा नाम ‘इंदिरा प्रियदर्शनी गाँधी’ है|इनके पिता का नाम जवाहरलाल नेहरू और दादा का नाम मोतीलाल नेहरू था|पिता एवं दादा दोनों वकालत के पेशे से संबंधित थे और देश की स्वाधीनता में इनका प्रबल योगदान था|इनकी माता का नाम कमला नेहरु था जो दिल्ली के प्रतिष्ठित कौल परिवार की पुत्री थीं|इंदिरा जी का जन्म ऐसे परिवार में हुआ था जो आर्थिक एवं बौद्धिक दोनों दृष्टि से काफ़ी संपन्न था|अत: इन्हें आनंद भवन के रूप में महलनुमा आवास प्राप्त हुआ|इंदिरा जी का नाम इनके दादा पंडित मोतीलाल नेहरू ने रखा था| यह संस्कृतनिष्ठ शब्द है जिसका आशय है कांति, लक्ष्मी, एवं शोभा|इनके दादाजी को लगता था कि पौत्री के रूप में उन्हें माँ लक्ष्मी और दुर्गा की प्राप्ति हुई है|

इसे भी पढ़ें – डॉ राजेन्द्र प्रसाद जी का जीवन परिचय|

दोस्तों, इंदिरा जी को बचपन में माता-पिता का ज़्यादा साथ नसीब नहीं हो पाया|पंडित नेहरू देश की स्वाधीनता को लेकर राजनीतिक क्रियाओं में व्यस्त रहते थे और माता कमला नेहरू का स्वास्थ्य उस समय काफ़ी ख़राब था|दादा मोतीलाल नेहरू से इंदिरा जी को काफ़ी स्नेह और प्यार-दुलार प्राप्त हुआ था|इंदिरा जी की परवरिश नौकर-चाकरों द्वारा ही संपन्न हुई थी|घर में इंदिरा जी इकलौती पुत्री थीं|इस कारण इन्हें बहन और भाई का भी कोई साथ प्राप्त नहीं हुआ। एकांत समय में वह अपने गुड्डे-गुड़ियों के साथ खेला करती थीं|घर पर शिक्षा का जो प्रबंध था, उसे पर्याप्त नहीं कहा जा सकता था|लेकिन अंग्रेजी भाषा पर उन्होंने अच्छा अधिकार प्राप्त कर लिया था|

आपको बताये 23 जून 1980 को इंदिरा गाँधी के छोटे पुत्र संजय गाँधी की वायुयान दुर्घटना में मृत्यु हो गई|संजय की मृत्यु ने इंदिरा गाँधी को तोड़कर रख दिया|इस हादसे से वह स्वयं को संभाल नहीं पा रही थीं|तब राजीव गाँधी ने पायलेट की नौकरी छोड़कर संजय गाँधी की कमी पूरी करने का प्रयास किया|लेकिन राजीव गाँधी ने यह फैसला हृदय से नहीं किया था|इसका कारण यह था कि उन्हें राजनीति के दांवपेच नहीं आते थे|जब इंदिरा गाँधी की दोबारा वापसी हुई तब देश में अस्थिरता का माहौल उत्पन्न होने लगा|कश्मीर, असम और पंजाब आतंकवाद की आग में झुलस रहे थे| दक्षिण भारत में भी सांप्रदायिक दंगों का माहौल पैदा होने लगा था|दक्षिण भारत जो कांग्रेस का गढ़ बन चुका था, 1983 में विधानसभा चुनावों में कांग्रेस को आँध्रप्रदेश और कर्नाटक में हार का सामना करना पड़ा|वहाँ क्षेत्रीय स्तर की पार्टियाँ सत्ता पर क़ाबिज हो गईं|

इसे भी पढ़ें – नरेंद्र मोदी जी का जीवन परिचय|

दोस्तों इस तरह आज इस आर्टिकल के माध्यम से मै आप सभी को प्रधान्मंत्री इंदिरा गाँधी जी के बारे में बताया उम्मीद है आप सभी मेरा ये post बेहद पसंद आया होगा|अगर आप सभी ने मेरे इस आर्टिकल को अच्छे से पढ़ा होगा तो be जरुरी जानकारी मिल गयी होगी|अब मै समझ सकता हूँ सभी को मेरा ये post अच्छा लगा|अगर आपको कुछ पूछना हो तो नीचे message box में comment के माध्यम से बता सकते हैं|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *