गुरु रामदास Birthday की जानकारी और HD Wallpaper

दोस्तों, हमारे भारत देश में अनेकों संत हुए और बहुत से महान संतो का प्राकट्य हुआ उन्ही में से एक गुरु रामदास जी भी हैं जिनको समर्थ रामदास के नाम से भी जाना जाता है|समर्थ रामदास महाराष्ट्र के प्रसिद्ध संत थे|आपको बताये वे छत्रपति शिवाजी के गुरु थे|उन्होंने ‘दासबोध’ नामक एक प्रसिद्द ग्रन्थ की रचना भी की थी जो मराठी भाषा में है| हिन्दू पद पादशाही ‘ के संस्थापक शिवाजी के गुरु रामदासजी का नाम भारत के साधु-संतों व विद्वत समाज में सुविख्यात है|महाराष्ट्र तथा सम्पूर्ण दक्षिण भारत में तो प्रत्यक्ष भगवान् हनुमान के अवतार के रूप में उनकी पूजा की जाती है|आज इस आर्टिकल के माध्यम से मै आपको गुरु रामदास के बारे में कुछ अनोखी बातें share कर रहा हूँ साथ ही उनकी कुछ images और HD wallpaper भी आप से share कर रहा हूँ|

समर्थ रामदास hd wallpaper

आपको बताऊ समर्थ रामदास का मूल नाम ‘नारायण सूर्याजीपंत कुलकर्णी’  था। इन्हें ठोसर भी कहा जाता है|इनका जन्म ऋग्वेदी ब्राह्मण परिवार में शके १५३० सन १६०८ में हुआ|समर्थ रामदास जी के पिता का नाम सूर्याजी पन्त था|वे सूर्यदेव के उपासक थे और प्रतिदिन ‘आदित्यह्रदय’ स्तोत्र का पाठ करते थे|वे गाँव के पटवारी थे लेकिन उनका बहुत सा समय उपासना में ही बीतता था|उनकी माता का नाम राणुबाई था|वे संत एकनाथ जी के परिवार की दूर की रिश्तेदार थी|वे भी सूर्य नारायण की उपासिका थीं|सूर्यदेव की कृपा से सूर्याजी पन्त को दो पुत्र गंगाधर स्वामी और नारायण (समर्थ रामदास) हुए। समर्थ रामदास जी के बड़े भाई का नाम गंगाधर था|उन्हें सब ‘श्रेष्ठ’ कहते थे|अब आइये हम विस्तार से इनका जीवन परिचय से अवगत होते हैं|

इसे भी पढ़ें – महर्षि वाल्मीकि Birthday की जानकारी|

समर्थ रामदास का जीवन परिचय –

समर्थ रामदास hd wallpaper

पूरा नाम – नारायण सूर्याजीपंत कुलकर्णी|

जन्म – शके 1530 (सन 1608)|

जयंती – 9 अक्टूबर2017.

जन्म भूमि – औरंगाबाद, महाराष्ट्र|

उपाधि – समर्थ|

दोस्तों गुरू रामदास जी एक बहुत ही उच्च वरीयता वाले व्यक्ति थे|वो अपनी भक्ति एवं सेवा के लिए बहुत प्रसिद्ध हो गये थे|गुरू अमरदास साहिब जी ने उन्हें हर पहलू में गुरू बनने के योग्य पाया एवं 1 सितम्बर १५७४ को उन्हें चतुर्थ नानक’ के रूप में स्थापित किया|गुरू रामदास जी ने ही चक रामदास’ या रामदासपुर’ की नींव रखी जो कि बाद में अमृतसर कहलाया|इस उद्देश्य के लिए गुरू साहिब ने तुंग, गिलवाली एवं गुमताला गांवों के जमींदारों से संतोखसर सरोवर खुदवाने के लिए जमीनें खरीदी|बाद में उन्होने संतोखसर का काम बन्द कर अपना पूरा ध्यान अमृतसर सरोवर खुदवाने में लगा दिया|इस कार्य की देख रेख करने के लिए भाई सहलो जी एवं बाबा बूढा जी को नियुक्त किया गया|

इसे भी पढ़ें – स्वामी विवेकानंद Quotes in hindi.

समर्थ गुरु रामदास HD wallpaper –

रामदास hd wallpaper

गुरु रामदास hd wallpaper

गुरु रामदास hd wallpaper

गुरु रामदास hd wallpaper

दोस्तों इस तरह आप सभी ने आज इस आर्टिकल के माध्यम से समर्थ गुरु रामदास जी के बारे में कुछ रोचक जानकारियां पायीं उम्मीद है आपको बहुत अच्छा लगेगा और समझ में आयेगा|अगर आपको कुछ पूछना हो या बताना हो तो आप नीचे message box में लिखकर comment कर सकते हैं|

इसे भी पढ़ें – APJ अब्दुल कलाम Quotes in hindi.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *