भाई दूज 2017 HD Wallpaper

दोस्तों, भाई दूज का पर्व हमारे देश में बड़े ही उल्लास के साथ मनाया जाता है|जैसा की हम सभी जानते हैं भाई दूज का त्यौहार दीवाली के बाद मनाया जाता है और इस बार यानि 2017 में भाई दूज हम सभी 21 अक्टूबर दिन शनिवार को मनाएंगे|आपको बताऊ भाई दूज को हम यम द्वितीया के नाम से भी जानते हैं|इस दिन सभी बहन अपने भी के लम्बे उम्र की कामना करती हैं और इस दिन वि‍वाहिता बहनें भाई बहन अपने भाई को भोजन के लिए अपने घर पर आमंत्रित करती है, और गोबर से भाई दूज परिवार का निर्माण कर, उसका पूजन अर्चन कर भाई को प्रेम पूर्वक भोजन कराती है|बहन अपने भाई को तिलक लगाकर, उपहार देकर उसकी लम्बी उम्र की कामना करती है|भाई दूर से जुड़ी कुछ मान्यताएं हैं जिनके आधार पर अलग-अलग क्षेत्रों में इसे अलग-अलग तरह ये मनाया जाता है|आज इस आर्टिकल में मै आपको कुछ HD wallpaper share कर रहा हूँ उम्मीद है आपको जरुर पसंद आएगा|

भाई दूज HD wallpaper –

भाई दूज hd wallpaper

इसे भी पढ़ें – धनतेरस पूजा विधि और hd wallpaper.

भाई दूज 2017 HD Wallpaper

भाई दूज 2017 HD Wallpaper

भाई दूज hd wallpaper

भाई दूज hd wallpaper

इसे भी पढ़ें – माँ काली पूजन की date और hd wallpaper.

भाई दूज hd wallpaper

भाई दूज hd wallpaper

भाई दूज hd wallpaper

भाई दूज hd wallpaper

भाई दूज hd wallpaper

इसे भी पढ़ें – दीवाली 2017 की date और hd wallpaper.

भाई दूज hd wallpaper

भाई दूज hd wallpaper

 

भारतीय में जितने भी पर्व त्यौहार होते हैं वे कहीं न कहीं लोकमान्यताओं एवं कथाओं से जुड़ी होती हैं। इस त्यौहार की भी एक पौराणिक कथा है। कथा के अनुसार। यमी यमराज की बहन हैं जिनसे यमराज काफी प्रेम व स्नेह रखते हैं। कार्तिक शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि को एक बार जब यमराज यमी के पास पहुंचे तो यमी ने अपने भाई यमराज की खूब सेवा सत्कार की। बहन के सत्कार से यमराज काफी प्रसन्न हुए और उनसे कहा कि बोलो बहन क्या वरदान चाहिए। भाई के ऐसा कहने पर यमी बोली की जो प्राणी यमुना नदी के जल में स्नान करे वह यमपुरी न जाए।

इसे भी पढ़ें – दीवाली quotes in hindi.

भाई दूज hd wallpaper

दोस्तों यमी की मांग को सुनकर यमराज चिंतित हो गये|यमी भाई की मनोदशा को समझकर यमराज से बोली अगर आप इस वरदान को देने में सक्षम नहीं हैं तो यह वरदान दीजिए कि आज के दिन जो भाई बहन के घर भोजन करे और मथुरा के विश्राम घट पर यमुना के जल में स्नान करे उस व्यक्ति को यमलोक नहीं जाना पड़े|इस पौराणिक कथा के अनुसार आज भी परम्परागत तौर पर भाई बहन के घर जाकर उनके हाथों से बनाया भोजन करते हैं ताकि उनकी आयु बढ़े और यमलोक नहीं जाना पड़े|भाई भी अपने प्रेम व स्नेह को प्रकट करते हुए बहन को आशीर्वाद देते है और उन्हें वस्त्र, आभूषण एवं अन्य उपहार देकर प्रसन्न करते हैं|

अब मै समझ सकता हूँ आप सभी को मेरा ये पोस्ट बेहद अच्छा लगा होगा अगर आप मेरे इस आर्टिकल को अच्छे से read किये होंगे तो मै उम्मीद के साथ कह सकता हूँ आप सभी को जरुरी जानकारी मिल गयी होगी|अगर आपको कुछ पूछना हो तो नीचे message box में comment कर हमसे पूछ सकते हैं अगर आप के पास भी कोई ऐसी रोचक जानकारी है तो बता सकते हैं|

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *