2 अक्टूबर 2017 की पूरी जानकारी

दोस्तों, 2 अक्टूबर हमारे भारतवर्ष में सभी जगहों पर मनाया जाता है आप सभी जानते हैं हमारे राष्ट्रीय त्योहारों मे 2 अक्तूबर का प्रमुख स्थान है|यह राष्ट्रीय त्योहार राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी के जन्म दिवस 2 अक्तूबर की शुभ स्मृति में मनाया जाता है|इस राष्ट्रीय त्योहार का महत्व सामाजिक, राष्ट्रीय आदि कई दृष्टियों से है|इस बार गांधी जयंती 2017 सोमवार, 2 अक्टूबर को मनाया जाएगा|महात्मा गांधी का जन्मदिन गांधी जयंती या महात्मा गांधी जयंती के नाम से हर साल भारत में मनाया जाता है|यह प्रत्येक वर्ष 2 अक्टूबर को पडता है, और पूरे भारत में राजपत्रित अवकाश होता है|2 अक्टूबर को महान व्यक्ति महात्मा गाँधी का जन्म वर्ष 1869 को पोरबन्दर में गुजरात में कर्मचन्द गाँधी और पुतलीबाई के यहाँ हुआ था|

2 अक्टूबर 2017 की पूरी जानकारी

दोस्तों हम सभी जानते हैं महात्मा गाँधी को भारतियों की स्वतंत्रता के लिए अपने अविस्मरणीय योगदान और संघर्ष के कारण भारत में बापू के नाम से जाना जाता है|सभी सरकारी कार्यालयों, बैंकों, स्कूलों, कॉलेजों, डाकघरों और आदि 2 अक्टूबर पर बंद रहते हैं|इस दिन को मनाने के लिए कुछ व्यवसाय और संगठन कुछ घंटे के लिए खुलते हैं|गाँधी जयंती 3 राष्ट्रीय अवकाशों में से एक है भारत के राष्ट्रपिता अर्थात महात्मा गाँधी को श्रद्धाँजलि देने के लिये हर वर्ष 2 अक्टूबर को इसे मनाया जाता है|विशेष उत्सवों में से एक के रुप में इसे माना जाता है इसी वजह से 2 अक्टूबर को अपने देशभक्त नेता के प्रति सम्मान प्रदर्शित करने के लिये भारतीय सरकार द्वारा शराब की बिक्री जैसे बुरे कार्यों पर सख्ती से रोक लगा दी जाती है|2 अक्टूबर 1869 वह दिन था जब इस महान नेता ने जन्म लिया|ये भारत के सभी राज्यों तथा केन्द्र शासित प्रदेशों में मनाया जाता है|

इसे भी पढ़ें – 2 अक्टूबर गाँधी जयंती HD Wallpaper.

2 अक्टूबर पर विशेष –

2 अक्टूबर की पूरी जानकारी

  • दोस्तों अभी हमने जाना की 2 अक्टूबर गाँधी जी की जयंती के रूप में और उन्हें याद करने के लिए मनाया जाता है|आपको बताये गाँधी जी एक महापुरुष थे|वह मानवता के संरक्षक थे|वे दीन-दुखियों के सहायक और अहिंसा के पुजारी थे|वे भारत की स्वतंत्रता का बिगुल फूँकनेवाले महान स्वतंत्रता सेनानी थे|वे दूसरों की पीड़ा समझने वाले महान संत थे|इस महापुरुष का जन्म 2 अक्टूबर 1969 को गुजरात में हुआ था|इन्हीं का जन्मदिन हम लोग गाँधी जयन्ती के रूप में मनाते हैं|महापुरुषों का जन्म यदा-कदा ही होता है ।
  • गाँधी जी का जन्मदिन विशेष महत्त्व रखता है|यह दिन लोगों को उनके व्यक्तित्व की विशेषताओं की याद दिला जाता है}इस दिन लोग उनको याद करते हैं और उन्हें श्रद्‌धांजलि अर्पित करते हैं|दिल्ली स्थित राजघाट पर महात्मा गाँधी का समाधिस्थल है|गाँधी जयन्ती के दिन लोग यहाँ बड़ी संख्या में आते हैं|राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री तथा अन्य नेतागण यहाँ उपस्थित होकर राष्ट्र की ओर से उन्हें नमन करते हैं|गाँधी जी के प्रिय भजनों का गायन होता है- “वैष्णव जन तो तेने कहिए जो पीर पराई जाने रे ।’’ यह भजन गाँधी जी को अत्यंत प्रिय था|वे राम में रहीम और रहीम में राम के दर्शन करते थे|भजन-संध्या में उनके इन्हीं विचारों को याद किया जाता है|मै समझ सकता हूँ आपको समझ आ रहा होगा|

2 अक्टूबर 2017 की पूरी जानकारी

  • आपको बताना चाहता हूँ 2 अक्तूबर के इस राष्ट्रीय त्योहार के महत्वपूर्ण होने के कई आधार है|चूँकि महात्मा गाँधी का व्यक्तिगत जीवन स्वान्तःसुखाय न होकर परान्तःसुखाय की भावना से संचालित था|इससे हम आज भली-भांति परिचित हैं|उन्होंने आजीवन समाज कल्याण और राष्ट्र कल्याण के लिए ही आत्मजीवन को समर्पित कर दिया|2 अक्तूबर का त्योहार इसीलिए महत्वपूर्ण और प्रभावशाली त्योहार माना जाता है|
  • पूरे विश्व में बापू के दर्शन, अहिंसा में भरोसा, सिद्धांत आदि को फैलाने के लिये अंतर्राष्ट्रीय अहिंसा दिवस के रुप में गाँधी जयंती को मनाने का लक्ष्य है|विश्वभर में लोगों की जागरुकता बढ़ाने के लिये उचित क्रियाकलापों पर आधारित विषय-वस्तु के द्वारा इसे मनाया जाता है|भारतीय स्वतंत्रता में उनके योगदानों और महात्मा गाँधी के यादगार जीवन को समाहित करता है गाँधी जयंती|इनका जन्म एक छोटे से तटीय शहर में हुआ था, इन्होंने अपना पूरा जीवन देश के लिये समर्पित कर दिया जो आज के आधुनिक युग में भी लोगों को प्रभावित करता है|

इसे भी पढ़ें – नवरात्री 2017 की date और पूरी जानकारी|

2 अक्टूबर 2017 की पूरी जानकारी

  • इन्होंने स्वराज्य प्राप्ति, समाज से अस्पृश्यता को हटाने, दूसरी सामाजिक बुराईयों को मिटाने, किसानों के आर्थिक स्थिति को सुधारने में, महिला सशक्तिकरण आदि के लिये बहुत ही महान कार्य किये है|ब्रिटिश शासन से आजादी प्राप्ति में भारतीय लोगों की मदद के लिये इनके द्वारा 1920 में असहयोग आंदोलन, 1930 में दांडी मार्च या नमक सत्याग्रह और 1942 में भारत छोड़ो आदि आंदोलन चलाये गये|अंग्रेजों को भारत छोड़ने के लिये उनका भारत छोड़ो आंदोलन एक आदेश स्वरुप था|हर वर्ष पूरे देश में विद्यार्थी, शिक्षक, सरकारी अधिकारियों आदि के द्वारा गाँधी जयंती को बहुत ही नये तरीके से मनाया जाता है|सरकारी अधिकारियों के द्वारा नई दिल्ली के राजाघाट पर गाँधी प्रतिमा पर फूल चढ़ाकर, उनका पसंदीदा भक्ति गीत “रघुपति राघव राजा राम” गाकर तथा दूसरे रीति संबंधी क्रियाकलापों के साथ इसे मनाया जाता है|

2 अक्टूबर 2017 की पूरी जानकारी

दोस्तों अब मै समझ सकता हूँ आप सभी को मेरा ये पोस्ट बहुत अच्छा लगा होगा अगर आप मेरे इस पोस्ट को अच्छे से पढ़े होंगे तो आपको बहुत बेहद अच्छा लगा होगा और समझ में भी आया होगा|आप सभी मेरे इस पोस्ट को अपने जीवन में उतर सकते हैं और आपके लिए बहुत अच्छा साबित हो सकता है|अगर आपको कुछ पूछना या बताना हो तो आप नीचे message के द्वारा बता सकते हैं|

इसे भी पढ़ें – नवरात्री quotes in hindi.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *