Monthly Archives: January 2018

lungs की बीमारियाँ और कार्य

दोस्तों, फेफड़े हमारे शरीर के मुख्य अंग होते हैं|जैसा कि हम सभी जानते हैं जो हमारे जीवन में एक अहम रोल अदा करते हैं क्योंकि जीवित रहने के लिए सांस लेना बहुत हो जरूरी होता है और सांस लेने के लिए हमारे फेफड़ों का स्वस्थ होना बहुत ही जरूरी है|लेकिन दोस्तों दूषित वातावरण के साथ साथ दूषित खाना भी हमारे फेफड़ों का दुश्मन बना हुआ है|जब भी हमारे फेफड़ों को किसी प्रकार का रोग हो जाता है, तो उसकी हमें भारी कीमत चुकानी पडती है|आज इस आर्टिकल के माध्यम से मै आपको Lungs यानि फेफड़े की बीमारी के बारे में बताऊंगा और उसके निवारण साथ ही आपको उसके कार्य से अवगत कराता हूँ उम्मीद है आपको बहुत पसंद आएगा|

Lungs in hindi

फेफड़े हमारी छाती में स्पंज की तरह शंकु के आकार की जोड़ी होती है|यह असंख्य वायुकोषों में बंटी हुई होती है|यह हमारी श्वास प्रणाली का बहुत ही अहम हिस्सा है|हमारे बाएं फेफड़े का आकार छोटा होता है, क्योंकि हमारा ह्रदय बाएं ओर होता है, बाएं फेफड़े में दो लोब्स होते हैं जबकि दाएं फेफड़े में तीन लोब्स होते हैं|हमारे फेफड़े पतले आवरण के साथ ढके हुए होते हैं|जिसे हम या प्लुरा कहते हैं जो हमारे फेफड़ों की सांस लेने और सांस छोड़ने में मदद करता है|

फेफड़ा/ Lungs का कार्य –

दोस्तों फेफड़ों का कार्य हमारे रक्त का शुद्धिकरण करना होता है|फेफड़े में एक पल्मोनरी शिरा ह्रदय से अशुद्ध रक्त को लेकर आती है|फेफड़ों के द्वारा इस रक्त का शुद्धिकरण होता है|हमारे रक्त में ऑक्सीजन का मिश्रण होता है|फेफड़ों का कार्य सांस और रक्त के बीच गैसों का आदान-प्रदान करना होता है|फेफड़ों के द्वारा वातावरण से ऑक्सीजन लेकर रक्त परिसंचरण में प्रवाहित होती है, और रक्त से कार्बनडाई ऑक्साइड निकालकर वातावरण में छोड़ी जाती है|

Lungs in hindi

आपको बताये श्वास नली दो भागों में विभाजित होकर दाएं फेफड़े में प्रवेश करती है|प्रत्येक फेफडो के अंदर ब्रांक्स ट्यूबो में माध्यमिक ब्रांकाई में विभाजित हो जाता है और यह आगे विभाजित होकर ब्रांकिओल्स बनाते हैं|इसके अंत में एयरबैग होता है जिसे अल्वेओली कहते हैं|यह अल्वेओली हमारे रक्त कोशिकाएं से गुजर कर ऑक्सीजन का आदान प्रदान करती है|

फेफड़े की बीमारियाँ –

  • फेफड़ों में सूजन आना
  • दमा
  • फेफड़ों में पानी भरना
  • फेफड़ों में कैंसर
  • ब्रोंकाइटिस
  • टीबी का रोग

दोस्तों आज हम बात करने जा रहे हैं फेफड़े की बीमारियाँ|वैसे आप सभी जानते हैं फेफड़ा हमारे सरीर का बहुत महत्वपूर्ण अंग होता है इसके बिना जीवन संभव नही है तो चलिए हम सभी जानते हैं हमारे फेफड़े में कितनी बीमारियाँ हो सकती है आइये जानते हैं|

इसे भी पढ़ें – Surrogacy क्या है in hindi.

  1. फेफड़े में सूजन का आना –

दोस्तों हम सभी जानते हैं जब भी हम धूम्रपान करते हैं, तो उस धुंए का असर हमारे फेफड़ों पर पड़ता है जिसके कारण हमारे फेफड़ों में सूजन आना शुरू हो जाती है, इसके अलावा जब हम दूषित वातावरण में रहते हैं या फिर बाहर के दूषित खाने का सेवन करते हैं, तो इससे हमारे फेफड़ों में सूजन पैदा होने लगती है|


2. फेफड़े में पानी की परेशानी –

आपको बताये फेफड़े हमारे शरीर के वो अंग होते हैं जिसके कारण हम असानी से सांस लेते हैं और जीवित रह सकते हैं, लेकिन कई बार हमारे फेफड़ों में पानी भर जाता है और हमें बुखार का सामना करना पड़ता है और हमारी साँस रुक-रुक कर आती है|

3. कैंसर की समस्या –

दोस्तों फेफड़ों का काम होता है हवा से ऑक्सीजन को अलग करके रक्त में पहुंचना|हमारे शरीर से कार्बन डाई- ऑक्साइड पैदा होती है, जो फेफड़ों के द्वारा शरीर से बाहर निकल जाती है|लेकिन कई बार हमारे फेफड़ों में संक्रमण होने लगता है जिसके कारण हमारे फेफड़े सही से काम नहीं करते|जब यह समस्या बढ़ने लगती है, तो यह कैंसर का रूप धारण कर लेती है|

इसे भी पढ़ें – Menstrual cycle in hindi.

4. टीवी की परेशानी –

दोस्तों टीबी का पूरा नाम ट्यूबरक्लोसिस होता है|यह एक ऐसा रोग होता है जिसे अगर शुरू में ही न रोका जाये तो यह जानलेवा साबित हो सकता है और यह व्यक्ति को धीरे -धीरे मारता है|ऐसे में जब भी व्यक्ति को तीन सप्ताह से अधिक खांसी हो, तो उसे तुरंत ही डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए|

दोस्तों जब भी व्यक्ति की सूक्ष्म नलियों में किसी प्रकार का कोई रोग पैदा हो जाते हैं, तो अक्सर उसे साँस लेने में दिक्कत होने लगती है और हमें खांसी की शिकायत हो जाती है|जिसे हम दमा कहते हैं|दमा एक ऐसा रोग होता है जिसमे साँस लेने और छोड़ने पर बहुत ही कठिनाई होती है, ऐसे में फेफड़ों तक वायु की पूरी खुराक नहीं पहुंच पाती, जिसके कारण रोगी को पूरी श्वास लिए बिना ही अपनी श्वास छोड़ने के लिए मजबूर होना पड़ता है|

जो भी दमा से पीड़ित रोगी होते हैं उसकी आवाज से सिटी बजने की आवाज सुनाई देती है, दमा से पीड़ित लोगों के चेहरे ऑक्सीजन के अभाव के कारण पीला पड़ जाता है|जब भी दमा से पीड़ित रोगियों को खांसी होती है, तो वो सुखी खांसी होती है जितना भी वो चाहे बलगम निकालने की कोशिश करें, बलगम बाहर नहीं निकलती|

इसे भी पढ़ें – Yoga meaning in hindi.

दोस्तों इस तरह आप सभी ने जाना कि lungs क्या है और इसका मतलब क्या है|साथ ही आप सभी ने देखा मैंने आपको बड़े अच्छे से बताया कि फेफड़े के रोग कौन से और इससे कैसे निपटारा पाया जाये|अब मै उम्मीद के साथ कह सकता हूँ आप सभी को मेरा ये पोस्ट बहुत अच्छा लगा होगा अगर आप सभी ने मेरे इस पोस्ट को अच्छे से read किया होगा तो आपको जरुरी जानकारी मिल गयी होगी|अगर आपको मेरा ये पोस्ट अच्छा लगा हो तो नीचे message box में comment कर बता सकते हैं और अगर आपपको कुछ पूछना हो तो नीचे पूछ सकते हैं|