Lata Mangeskar Biography In Hindi

दोस्तों, लता मंगेशकर एक ऐसा नाम जो सभी के दिलों दिमाग में हमेशा रहता है और आप तो जानते हैं संगीत से कोई भी अछूता नही है और लता जी के गानों से भी कोई अछूता नही है|विश्व की सबसे अधिक गीत गाने वाली लता जी बहुत ही सरल स्वाभाव की हैं और इनकी आवाज में ऐसा जादू है और माँ सरस्वती की ऐसी कृपा है की आज तक कोई इनके गले के बारे में जान ही नही पाया की आखिर इतनी उम्र की हो गयी हैं लेकिन आवाज में आज भी वही कशिश है और मधुरता है|आज इस पोस्ट के माध्यम से मै आपको लता मंगेशकर जी के बारे में अच्छी जानकारी पेश करने जा रहा हूँ साथ ही इनका जीवन परिचय भी आप सभी को share कर रहा हूँ|

वैसे आपको बताऊ लता जी को भारत कोकिला यानि बॉलीवुड की नाइटिंगेल कहा जाता है|साथ ही भारत रत्न से भी आप सुशोभित हैं|लता मंगेशकर एक भारतीय प्लेबैक सिंगर और म्यूजिक कंपोजर है| वह भारत की एक सबसे प्रसिद्ध, बेहतरीन और सम्मानित प्लेबैक सिंगर है|लता मंगेशकर का करियर 1942 में शुरू हुआ था और आज लगभग उन्हें 7 दशक पुरे हो चुके है|उन्होंने तक़रीबन 1000 से ज्यादा हिंदी फिल्मो के लिये गाने गाए है और तक़रीबन 36 देसी स्थानिक भाषाओ में गायन भी किया है और साथ ही उन्होंने विदेशी भाषाओ में भी गायन किया है|तो चलिए अब हम सभी इनके जीवन परिचय पर प्रकाश डालते हैं|

लता मंगेश्कर का जीवन परिचय

लता मंगेश्कर का जीवन परिचय –

पूरा नाम – कुमारी लता दीनानाथ मंगेशकर|

उपनाम – लता मंगेश्कर, लता दीदी|

इसे भी पढ़ें – दीपिका पादुकोण का जीवन परिचय|

जन्म – 28 सितम्बर, 1929|

जन्म स्थान – इंदौर, मध्यप्रदेश|

माता पिता – शेवंती मंगेशकर, दिनानाथ मंगेशकर|

कुमारी लता दीनानाथ मंगेशकर का जन्म 28 सितम्बर, 1929 इंदौर, मध्यप्रदेश में हुआ था|उनके पिता दीनानाथ मंगेशकर एक कुशल रंगमंचीय गायक थे|दीनानाथ जी ने लता को तब से संगीत सिखाना शुरू किया, जब वे पाँच साल की थी|उनके साथ उनकी बहनें आशा, ऊषा और मीना भी सीखा करतीं थीं| लता ‘अमान अली ख़ान साहिब’ और बाद में ‘अमानत ख़ान’ के साथ भी पढ़ीं|लता मंगेशकर हमेशा से ही ईश्वर के द्वारा दी गई सुरीली आवाज़, जानदार अभिव्यक्ति व बात को बहुत जल्द समझ लेने वाली अविश्वसनीय क्षमता का उदाहरण रहीं हैं|

लता मंगेश्कर का जीवन परिचय

आपको बताऊ इन्हीं विशेषताओं के कारण उनकी इस प्रतिभा को बहुत जल्द ही पहचान मिल गई थी|लेकिन पाँच वर्ष की छोटी आयु में ही आपको पहली बार एक नाटक में अभिनय करने का अवसर मिला|शुरुआत अवश्य अभिनय से हुई किंतु आपकी दिलचस्पी तो संगीत में ही थी|मुख्यतः लता जी मराठी और हिंदी भाषा में गीत गाए है|भारत सरकार द्वारा भारतीय सिनेमा का सर्वोच्च अवार्ड दादा साहब फाल्के अवार्ड उन्हें 1989 में देकर सम्मानित किया गया था|एम. एस. सुब्बुलक्ष्मी के बाद वह दूसरी गायिका है जिन्हें भारत के सर्वोच्च अवार्ड भारत रत्न से सम्मानित किया गया है|

इसे भी पढ़ें – किशोर कुमार का जीवन परिचय|

फ़िल्मी सफ़र –

आपको बताना चाहूँगा सफलता की राह कभी भी आसान नहीं होती है|लता जी को भी अपना स्थान बनाने में बहुत कठिनाइयों का सामना करना पडा़|कई संगीतकारों ने तो आपको शुरू-शुरू में पतली आवाज़ के कारण काम देने से साफ़ मना कर दिया था|उस समय की प्रसिद्ध पार्श्व गायिका नूरजहाँ के साथ लता जी की तुलना की जाती थी|लेकिन धीरे-धीरे अपनी लगन और प्रतिभा के बल पर आपको काम मिलने लगा|लता जी की अद्भुत कामयाबी ने लता जी को फ़िल्मी जगत की सबसे मज़बूत महिला बना दिया था|

लता मंगेश्कर का जीवन परिचय

“ए मेरे वतन के लोगों तुम खूब लगा लो नारा|”

रोचक बातें –

  1. आपको बताये 1942 में लता मंगेशकर परिवार के साथ एक दुःखद घटना घटित हुई, जब दीनानाथ मंगेशकर को ह्रदय संबंधी बिमारी हुई और वे अपने विशाल युवा परिवार को बीच में छोड़ ही चल बसे थे|उनकी सबसे बड़ी बेटी, लता उस समय केवल 13 साल की थी और उसी समय लता ने परिवार के पालन-पोषण के लिये काम करना शुरू कर दिया था|
  2. लता ने अपना पहला गाना 1942 में मराठी फिल्म ‘किती हसाल’ के लिये “नाचू या गड़े” गाया था| लेकिन फिल्म की कटाई करते समय इस गाने को फिल्म से निकाल दिया गया था|
  3. उनके पिता के दोस्त मास्टर विनायक ने लता को 1942 में मराठी फिल्म ‘पहिली मंगला-गौर’ में एक छोटा सा किरदार भी दिया था जिसमे लता ने एक गाना भी गाया था|
  4. भले ही लता ने अपना करियर मराठी गायिका और अभिनेत्री के रूप में शुरू किया था लेकिन उस समय यह कोई नही जानता था की यह छोटी लड़की एक दिन हिंदी सिनेमा की सबसे प्रसिद्ध और मधुर गायिका बनेगी|देखा जाये तो, उनका पहला हिंदी गाना भी 1943 में आई मराठी फिल्म का ही था|वह गाना “माता एक सपूत की दुनियाँ बदल दे तु” था जो मराठी फिल्म “गजाभाऊ” का गाना था|
  5. बाद में 1945 में मास्टर विनायक कंपनी के साथ लता मुंबई आ गयी|इस समय भी लता उस्ताद अमानत अली खान से हिंदुस्तानी क्लासिकल संगीत सीखना शुरू किया था|

इसे भी पढ़ें – मोहम्मद रफ़ी का जीवन परिचय|

दोस्तों इस तरह आज आप सभी ने इस पोस्ट के माध्यम से जाना लता जी के बारे में कुछ छोटी सी जानकारी उम्मीद है आपको अच्छा लगा होगा अगर आपको मेरा ये पोस्ट अच्छा लगा हो तो नीचे comment कर बता सकते हैं|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *